Google CEO सुंदर पिचाई का कर्मचारियों को संदेश: कार्यालय राजनीति के लिए नहीं, बोले- ध्यान भटकने का कोई स्थान नहीं

Google CEO सुंदर पिचाई ने हाल ही में कर्मचारियों को एक मेमो में संदेश भेजकर कहा है कि कार्यालय राजनीति के लिए कोई स्थान नहीं है। यह संदेश इसके बाद आया है जब कंपनी ने हाल ही में इजरायल के साथ अपने क्लाउड कम्प्यूटिंग समझौते "प्रोजेक्ट निम्बस" के खिलाफ विरोध करने वाले 28 Google कर्मचारियों को नौकरी से निकाल दिया था।

Google CEO Sundar Pichai's Message to Employees: Office Not for Politics
Google CEO Sundar Pichai's Message to Employees: Office Not for Politics

कथा: गूगल के CEO सुंदर पिचाई ने हाल ही में अपने कर्मचारियों को एक मेमो के माध्यम से यह संदेश दिया कि कार्यालय राजनीति के लिए कोई स्थान नहीं है। इस संदेश के बाद कंपनी ने 28 कर्मचारियों को निकालने का निर्णय लिया था जिन्होंने इसके खिलाफ विरोध किया था।

इस मेमो में पिचाई ने कहा, “हमें अधिक ध्यान से काम करने की आवश्यकता है, सहयोग करने की आवश्यकता है, चर्चा करने की आवश्यकता है और यहां तक कि असहमति भी करने की आवश्यकता है। हमारे पास एक जीवंत, खुली चर्चा की संस्कृति है जो हमें अद्भुत उत्पाद बनाने और महान विचारों को क्रियान्वित करने की संभावना देती है। यह हमें संरक्षित करने के लिए महत्वपूर्ण है। लेकिन अंततः, हम एक कार्यस्थल हैं और हमारे नीतियां और अपेक्षाएं स्पष्ट हैं: यह एक व्यवसाय है, और अपने सहकर्मियों को असुरक्षित महसूस कराने के लिए, कंपनी को व्यक्तिगत प्लेटफ़ॉर्म के रूप में उपयोग करने के लिए, या विवादास्पद मुद्दों पर लड़ाई लड़ने के लिए यहां कोई स्थान नहीं है।”

गूगल के इस कदम के बाद, कंपनी ने एक ब्लॉग पोस्ट में अप्रैल 18 को गूगल के CEO सुंदर पिचाई के द्वारा कुछ “संरचनात्मक परिवर्तनों” की घोषणा की। इस ब्लॉग पोस्ट ने CEO के कर्मचारियों के लिए नोट को साझा किया जो परिवर्तनों के बारे में और कैसे बातें आगे बढ़ेंगी, इस पर चर्चा की।

संक्षेप में, ब्लॉग पोस्ट के अंत में, “मिशन पहले” नामक एक खंड में गूगल के CEO ने बात की कि कार्यस्थल वास्तव में “राजनीति पर बहस” या “विवादास्पद मुद्दों पर लड़ाई” के लिए नहीं है। उन्होंने फिर जोड़ा कि कंपनी एक महत्वपूर्ण स्थिति में है और यहां अफरातफ़ात नहीं है।

इस संदेश के बाद, कंपनी ने 28 कर्मचारियों को निकाला था जिन्होंने प्रोजेक्ट निम्बस के खिलाफ प्रदर्शन किया था। इन कर्मचारियों ने गूगल के दो कार्यालयों में सिट-इन प्रदर्शन किया था। शुक्रवार को, कुछ कर्मचारियों को गूगल के क्लाउड CEO थॉमस कुरियन के कार्यालय से आठ घंटे से अधिक वहाँ से हटने से मना कर दिया गया था। उनकी निकाली जाने की खबर आए जब गिरफ्तारी की गई।

संदर्भ:

  • गूगल ने 28 कर्मचारियों को निकाला जिन्होंने इस्राइल के साथ कंप्यूटिंग समझौते “प्रोजेक्ट निम्बस” के खिलाफ प्रदर्शन किया था।
  • कंपनी ने उन कर्मचारियों को निकाला था जिन्होंने कंपनी की संपत्ति को नुकसान पहुंचाने के आरोप में प्रदर्शन किया था।
  • गूगल के CEO सुंदर पिचाई ने अपने कर्मचारियों को स्पष्ट संदेश दिया कि कार्यस्थल राजनीति या विवादास्पद मुद्दों के लिए नहीं है।
  • कंपनी के निर्देशन में कार्यालय में शांति और साथीत्व के माहौल को बनाए रखने के लिए कठोर कार्रवाई की जा रही है।

इस विवाद के बाद, गूगल के कर्मचारियों को कंपनी के निर्देशकीय सुरक्षा अधिकारी क्रिस रेको ने अपने एक संदेश में चेतावनी दी कि वह इसे बर्दाश्त नहीं करेगा। उन्होंने कहा कि कार्मिकों को नियमों का पालन करना होगा और ऐसी आचार संहिता में अनुशासन बनाए रखने के लिए कठोर कार्रवाई की जाएगी।

यह भी पढ़े: Nothing Ear और Ear (A) भारत में लॉन्च, ChatGPT Voice AI के साथ।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Instagram Group Join Now
Team K.H.
Team K.H. एक न्यूज़ वेबसाइट का लेखक प्रोफ़ाइल है। इस टीम में कई प्रोफेशनल और अनुभवी पत्रकार और लेखक शामिल हैं, जो अपने विशेषज्ञता के क्षेत्र में लेखन करते हैं। यहाँ हम खबरों, समाचारों, विचारों और विश्लेषण को साझा करते हैं, जिससे पाठकों को सटीक और निष्पक्ष जानकारी प्राप्त होती है। Team K.H. का मिशन है समाज में जागरूकता और जानकारी को बढ़ावा देना और लोगों को विश्वसनीय और मान्य स्रोत से जानकारी प्राप्त करने की सुविधा प्रदान करना।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here