इरान-इसराइल संकट लाइव अपडेट: हमास की 7 अक्टूबर हमले को रोकने में असफलता के बाद इस्राइली सैन्य खुफिया प्रमुख ने दिया इस्तीफा

Iran-Israel Crisis: Israeli Intelligence Chief Resigns
Iran-Israel Crisis: Israeli Intelligence Chief Resigns

इसराइली सैन्य ने सोमवार को कहा कि उसके खुफिया सेना के प्रमुख ने हमास के 7 अक्टूबर के हमले को लेकर इस्तीफा दे दिया है, न्यूज एजेंसी AP की रिपोर्ट में बताया गया। इस्राइल के सैन्य खुफिया के प्रमुख आहरोन हलिवा, हमास के हमले के चारों ओर हुई असफलताओं के बारे में पहले वरिष्ठ इस्राइली आधिकारी बन गए हैं। हलिवा ने अक्टूबर में कहा था कि उन्हें हमले को नहीं रोकने के लिए जिम्मेदार मानना चाहिए, जो कि इस्राइल की शानदार रक्षा को तोड़ दिया था।

नेतन्याहू का बयान: इजराइली इकाईयों पर संयम लागू होने के खिलाफ लड़ाई

वहीं, इस्राइली प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने रविवार को कहा कि वह किसी भी इजराइली सैन्य इकाई पर अधिकारियों के द्वारा किए जा रहे हक्कों के खिलाफ लगाए जा रहे दण्डों के खिलाफ लड़ेंगे, जैसा कि समाचार एजेंसी रूटर्स ने रिपोर्ट किया। शुक्रवार को, संयुक्त राज्य ने पश्चिमी तट के इजराइली सेटलर्स से संबंधित एक सीरीज के दण्ड लगाने की घोषणा की, जो कि नेतन्याहू की नीतियों के प्रति बढ़ती असमंजस का नवीनतम संकेत है, रिपोर्ट में बताया गया। “अगर कोई लोग सोचते हैं कि वे आईडीएफ के एक यूनिट पर दण्ड लगा सकते हैं – मैं इसके खिलाफ अपनी सारी ताकत के साथ लड़ूंगा,” नेतन्याहू ने एक बयान में कहा।

अब तक क्या हुआ:

यह एस्केलेशन तब हुआ जब तेहरान ने 14 अप्रैल को इजराइल के क्षेत्र में 300 से अधिक ड्रोन और मिसाइल लॉन्च किए। यह हमले एक इस्राइली उत्तरीकरणी भवन पर इजराइली हमले के जवाब में थे, जिससे कम से कम 13 लोगों की मौत हुई थी, जिसमें दो उच्च पदस्थ इरानी गार्ड के सदस्य भी शामिल थे।

मध्य पूर्व और भारत के लिए इरान-इसराइल संकट का मतलब

इस्राइल के इरानी उत्तरदाता इस्राइली विमानहरण के हमले का वादा किया है। इस्लामाबाद के तत्वों ने अपने अभियान के बदले में इस्राइल के प्रमुख विमानहरणी आधिकारी और सुरक्षा उपनामकरण के उपनामकरण भी किए। अधिकारियों ने कहा कि इसका मतलब इरान की उपस्थिति तथा भारत की नीतियों में बदलाव का संकेत है। इस संकट ने मध्य पूर्व के शांति और सुरक्षा को भी प्रभावित किया है, जिससे भारत के लिए भी एक विशेष रूप से महत्वपूर्ण स्थिति उत्पन्न हो गई है।

इरान-इसराइल संघर्ष क्या है?

इरान-इसराइल संघर्ष एक लंबे समय से चल रही तकरार है, जिसमें दोनों देशों के बीच भारत भी सम्मिलित है। इस्राइल के सैन्य विमानहरण ने इरान के कुछ प्रमुख शहरों को हमला किया था, जिसके परिणामस्वरूप वहां के अनेक नागरिकों की मौत हो गई थी। इसके बदले में, इरान ने इस्राइली उत्तरदाताओं को भी अपने हमलों का जवाब दिया है, जिससे भारत और भारतीय राजनीति में भी इसका प्रभाव दिखाई दे रहा है।

आखिरी शब्द

इस्राइल-इरान संघर्ष के चलते मध्य पूर्व और भारत में भी गठित हो रही अदालती और राजनीतिक हलचल की वाणी उठी है। दोनों देशों के बीच वार्ता चरण में है, जिसे दुनिया के अन्य क्षेत्रों में भी महत्वपूर्ण रूप से देखा जा रहा है। महत्वपूर्ण है कि इस संकट के बारे में सही और निष्पक्ष जानकारी उपलब्ध हो, ताकि सामान्य लोग इसे समझ सकें और सही निर्णय ले सकें।

आशा है कि यह लेख आपको इस विषय में सही और महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान करने में मदद करेगा।

कृपया ध्यान दें: यह समाचार प्रकाशित डेटा का संदर्भ मात्र है। इसकी सत्यता की जाँच करने के लिए इंटरनेट के सार्वजनिक डोमेन से विवरणों की पुष्टि करें।

SOURCEPTI Inputes
Team K.H.
Team K.H. एक न्यूज़ वेबसाइट का लेखक प्रोफ़ाइल है। इस टीम में कई प्रोफेशनल और अनुभवी पत्रकार और लेखक शामिल हैं, जो अपने विशेषज्ञता के क्षेत्र में लेखन करते हैं। यहाँ हम खबरों, समाचारों, विचारों और विश्लेषण को साझा करते हैं, जिससे पाठकों को सटीक और निष्पक्ष जानकारी प्राप्त होती है। Team K.H. का मिशन है समाज में जागरूकता और जानकारी को बढ़ावा देना और लोगों को विश्वसनीय और मान्य स्रोत से जानकारी प्राप्त करने की सुविधा प्रदान करना।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here