Apple ने कुछ भारतीय उपयोगकर्ताओं को चेतावनी दी, उनके iPhone पर Pegasus जैसे खतरनाक स्पाईवेयर के हमले के बारे में

Apple ने भारत में कुछ अपने उपयोगकर्ताओं को खतरनाक खता चेतावनियां भेजी हैं, साथ ही 91 अन्य देशों के उपयोगकर्ताओं को भी, जिन्हें यह चेतावनी दी गई है कि उनके iPhone को "Pegasus-type spyware" के द्वारा हमला किया गया हो सकता है, जिसमें इजराइली NSO ग्रुप का विवादित Pegasus स्पाईवेयर शामिल है।

Apple warns some Indian users about dangerous spyware attack like Pegasus on their iPhones
Apple warns some Indian users about dangerous spyware attack like Pegasus on their iPhones

Apple ने नवीनतम खतरे के नोटिफिकेशन को भारत में कुछ उपयोगकर्ताओं को भेजा है, साथ ही 91 अन्य देशों के उपयोगकर्ताओं को भी, जिन्हें इस चेतावनी में बताया गया है कि उनके iPhone पर “सेनानी स्पाईवेयर” के द्वारा हमला किया गया हो सकता है, जिसमें इजराइली NSO ग्रुप का विवादित Pegasus स्पाईवेयर शामिल है।

इस खतरनाक स्पाईवेयर के हमले की वजह से नए अपडेट के बारे में अब अप्पल ने अपडेट किया गया है। इसे पहले Apple ने अद्यतन किया था जब यह खतरे की चेतावनी दी गई थी, कम से कम 20 भारतीय उपयोगकर्ताओं ने इसे प्राप्त किया था।

Apple ने इस नोटिफिकेशन में यह भी बताया है कि उन्हें अधिक जानकारी प्रदान करने में असमर्थता है क्योंकि यह खतरनाक स्पाईवेयर हमले करने वालों को “भविष्य में खोजने से बचने के लिए अपने व्यवहार को अनुकूल बनाने” में मदद मिल सकती है।

इसमें Apple ने उपयोगकर्ताओं को सभी लिंक्स के साथ सावधान रहने की सलाह दी है, और उन्हें अप्रत्याशित या अज्ञात प्रेषकों से किसी भी लिंक्स या अटैचमेंट्स को न खोलने की सलाह दी है।

Apple ने इस खतरनाक स्पाईवेयर हमले के शिकार होने वाले उपयोगकर्ताओं के लिए टिप्स शामिल करने के लिए अपने समर्थन पृष्ठ को भी अपडेट किया है।

Apple ने इन खतरनाक स्पाईवेयर हमलों की चेतावनियों को भेजना 2021 में शुरू किया था, और इस दौरान 150 देशों में लोगों ने इन्हें प्राप्त किया है।

पिछले मामलों में की गई जांचें बहुत कुछ नहीं दिखाईं हैं। 2021 में, सुप्रीम कोर्ट ने इजराइली फर्म NSO ग्रुप द्वारा विकसित Pegasus सॉफ़्टवेयर का अवैध उपयोग करने के आरोपों की जांच के लिए तकनीकी विशेषज्ञों की एक समिति की थी।

पेगासस विवाद की खबरें उस समय आईं जब कुछ गतिविधिकर्ताओं, पत्रकारों और राजनीतिक व्यक्तियों के फोनों को टैप करने के लिए सॉफ़्टवेयर का अवैध उपयोग हो रहा था। इसके बाद, सुप्रीम कोर्ट में इस आरोप की जांच करने के लिए कई याचिकाएं दायर की गईं।

अगस्त 2022 में, तकनीकी विशेषज्ञों की समिति ने इस सॉफ़्टवेयर का उपयोग करने की कोई निश्चित सबूत नहीं पाए, लेकिन उसने नोट किया कि केंद्र सरकार “समिति के साथ सहयोग नहीं किया था”।

इस खतरनाक स्पाईवेयर के हमले के बारे में अधिक जानकारी के लिए, पढ़ें: [Apple ने कुछ भारतीय उपयोगकर्ताओं को चेतावनी दी कि उनके iPhone पर Pegasus जैसे स्पाईवेयर के हमले हो सकते हैं]

पेगासस स्पाइवेयर कैसे काम करता है और क्या मेरा फोन खतरे में है?

पेगासस स्पाईवेयर एक खास तरह का स्पाईवेयर है जो साइबर गुप्तचर हमले के लिए उपयोग किया जाता है। यह स्पाईवेयर अपराधी तत्वों द्वारा विकसित किया गया है और यह आमतौर पर व्यक्तिगत डिवाइस पर प्रवेश करने के लिए उपयोग किया जाता है, जैसे कि मोबाइल फोन, कंप्यूटर, या टैबलेट।

पेगासस स्पाईवेयर का काम यह होता है कि वह उपयोगकर्ता के डिवाइस में चुपके से प्रवेश करता है और उसकी सभी गतिविधियों को ट्रैक करता है। यह जासूसी कार्यक्रम उपयोगकर्ता के मैसेज, कॉल्स, ईमेल, सोशल मीडिया गतिविधियों, फोटोग्राफ्स, वीडियो, और अन्य डेटा को अपने नियंत्रण में ले लेता है।

कुछ प्रमुख तत्व जो पेगासस स्पाईवेयर को विशेष बनाते हैं:

  1. क्षमता डेटा को चुराने की: पेगासस उपयोगकर्ता के डेटा को चुराने में सक्षम होता है, जिसमें संदेश, कॉल रिकॉर्ड, वीडियो, और फोटोग्राफ्स शामिल हो सकते हैं।
  2. शोर्ट सेलिंग एंड माइक्रोफोन कंट्रोल: यह स्पाईवेयर उपयोगकर्ता के माइक्रोफोन और कैमरा को भी नियंत्रित कर सकता है, जिससे उसकी गोपनीयता को खतरे में डाला जा सकता है।
  3. जानकारी चोरी: इसके द्वारा, स्पाईवेयर उपयोगकर्ता के पासवर्ड, खाते की जानकारी, बैंक विवरण, और अन्य संबंधित जानकारी को चुरा सकता है।

इसलिए, यदि आपको लगता है कि आपका फोन पेगासस स्पाईवेयर के शिकार हो सकता है, तो आपको कुछ उपाय अपनाने चाहिए:

  1. सुरक्षित ब्राउज़िंग: केवल विश्वसनीय और सुरक्षित वेबसाइटों पर ही सर्फ करें।
  2. अपडेट और सॉफ़्टवेयर: अपने डिवाइस के सॉफ़्टवेयर को समय-समय पर अपडेट करें, जिससे सुरक्षा में सुधार हो सके।
  3. एंटीवायरस सॉफ़्टवेयर: अपने डिवाइस पर एंटीवायरस सॉफ़्टवेयर का उपयोग करें जो अद्यतन रहे।
  4. अज्ञात लिंक्स से सावधान रहें: किसी भी अज्ञात लिंक्स को क्लिक करने से बचें और अज्ञात ईमेलों को खोलने से पहले सत्यापित करें।

इन उपायों का पालन करके आप अपने डिवाइस को स्थायी रूप से सुरक्षित रख सकते हैं।

क्यों जरूरी है:

यह समाचार उपयोगकर्ताओं को उनके डिवाइसों की सुरक्षा के महत्व को समझाने के लिए महत्वपूर्ण है। इससे उपयोगकर्ता सतर्क रहें और सावधानी बरतें, ताकि उनके डिवाइसों पर स्पाईवेयर या अन्य खतरे का सामना न करना पड़े।

यदि आपको यह संबंधित समाचार पसंद आया हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ साझा करें और सुरक्षित रहें।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Instagram Group Join Now
Team K.H.
Team K.H. एक न्यूज़ वेबसाइट का लेखक प्रोफ़ाइल है। इस टीम में कई प्रोफेशनल और अनुभवी पत्रकार और लेखक शामिल हैं, जो अपने विशेषज्ञता के क्षेत्र में लेखन करते हैं। यहाँ हम खबरों, समाचारों, विचारों और विश्लेषण को साझा करते हैं, जिससे पाठकों को सटीक और निष्पक्ष जानकारी प्राप्त होती है। Team K.H. का मिशन है समाज में जागरूकता और जानकारी को बढ़ावा देना और लोगों को विश्वसनीय और मान्य स्रोत से जानकारी प्राप्त करने की सुविधा प्रदान करना।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here