राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा: अयोध्या में सप्ताहांत के धार्मिक अनुष्ठान का आज से आरंभ | यहां है सात-दिन का अनुसूची

वैदिक संस्कृति के शोधार्थ, आयोध्या के नए राम जन्मभूमि मंदिर में 'राम लल्ला' की प्राण प्रतिष्ठा समारोह की शुरुआत आज से हो रही है। 22 जनवरी को होने वाले 'राम लल्ला' के प्राण-प्रतिष्ठा समारोह की शुरुआत के साथ ही सप्ताह के सात दिनों की अनुसूची भी तैयार की गई है।

Ram Mandir Pran Pratishtha Commencement of Spiritual Ceremonies in Ayodhya for a Week
Ram Mandir Pran Pratishtha Commencement of Spiritual Ceremonies in Ayodhya for a Week

अयोध्या, 16 जनवरी:  आज से अयोध्या के राम जन्मभूमि मंदिर में भगवान राम लल्ला की प्राण प्रतिष्ठा के पूर्व-अनुष्ठान का सात-दिनी कार्यक्रम शुरू हो गया है, जो 21 जनवरी (रविवार) तक चलेगा। इस अनुष्ठान का उत्सव 22 जनवरी को प्राण-प्रतिष्ठा समाप्त होगा।

मुहूर्त और पूजा का विशेष महत्व:

प्राण-प्रतिष्ठा का अभिषेक भगवान राम लल्ला की आगामी पौष शुक्ल कुर्माद्वादशी, विक्रम संवत 2080, जो 22 जनवरी को विक्रम संवत 2080 कैलेंडर में आ रहा है, को आयोजित किया जाएगा। सभी शास्त्रीय प्रोटोकॉल्स का पालन करते हुए, प्राण-प्रतिष्ठा का कार्यक्रम दोपहर में ‘अभिजीत मुहूर्त’ में होगा।

सात-दिनी कार्यक्रम का विवरण:

  • 16 जनवरी: प्रायश्चित और कर्मकुटि पूजन
  • 17 जनवरी: मूर्ति का परिसर प्रवेश
  • 18 जनवरी (शाम): तीर्थ पूजन, जल यात्रा, जलाधिवास और गंधाधिवास
  • 19 जनवरी (सुबह): औषधाधिवास, केसराधिवास, घृताधिवास और धान्याधिवास (शाम में)
  • 20 जनवरी (सुबह): शर्कराधिवास, फलाधिवास, और पुष्पाधिवास (शाम में)
  • 21 जनवरी (सुबह): मध्याधिवास और शय्याधिवास (शाम में)

अचार्यों और अनुष्ठान का विवरण:

प्राण प्रतिष्ठा समर्पण का अनुष्ठान सम्पन्न करेंगे कुल 121 आचार्य। गणेश्वर शास्त्री द्रविड़ आनुष्ठान के दौरान सभी कार्यों को संरचित, समन्वित, और मार्गदर्शित करेंगे, जबकि काशी के लक्ष्मीकांत दीक्षित मुख्य आचार्य की भूमिका निभाएंगे।

सार्वजनिक दरबार में संपन्न होने वाले अनुष्ठान में शामिल होंगे भारतीय आध्यात्मिकता के सभी विद्यालयों के आचार्य, संतों से लेकर 150 से अधिक परंपराओं के संत, महामंडलेश्वर, मंडलेश्वर, श्रीमहंत, महंत, नागा सहित और 50 से अधिक आदिवासी, गिरिवासी, तत्ववासी, द्वीपवासी आदिवासी परंपराओं के नेता।

समृद्धि की परंपरा:

इस अनुष्ठान में शाइव, वैष्णव, शाक्त, गाणपत्य, पाठ्य, सिख, बौद्ध, जैन, दशनाम शंकर, रामानंद, रामानुज, निम्बार्क, माधव, विष्णु नामी, रामसनेही, घिसापंथ, गरीबदासी, गौड़िया, कबीरपंथी, वाल्मीकि, शंकरदेव (असम), माधव देव, इस्कॉन, रामकृष्ण मिशन, चिन्मया मिशन, भारत सेवाश्रम संघ, गायत्री परिवार, अनुकूल चंद्र, ठाकुर परम्परा, महिमा समाज उड़ीसा, अकाली, निरंकारी, नामधारी पंजाब, राधास्वामी और स्वामीनारायण, वारकरी, वीर शैवा, आदि जैसी समृद्धि की परंपराएं शामिल होंगी।

राम लल्ला मूर्ति:

श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ने प्रसिद्ध कलाकार अरुण योगीराज द्वारा कृष्ण शिला पर निर्मित मूर्ति का चयन किया है जो भगवान श्रीरामलल्ला सरकार के श्री विग्रह के रूप में सेवित करेगी। इस पत्थर की मूर्ति में एक पाँच वर्षीय राम लल्ला का प्रतिष्ठान होगा और इसका वजन 150 किग्रा से 200 किग्रा के बीच होने की उम्मीद है। इस नए मंदिर के गर्भगृह में वर्तमान में पूजे जा रहे राम लल्ला की मूर्ति भी रखी जाएगी।

विशेष अतिथिगण:

प्राण प्रतिष्ठा का अनुष्ठान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, आरएसएस के मुख्य मोहन भागवत, उत्तर प्रदेश राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, और अन्य महत्वपूर्ण व्यक्तियों के उपस्थिति में होगा। मंदिर ट्रस्ट ने इस अद्वितीय समय में 7,000 से अधिक लोगों को आमंत्रित किया है जिनमें क्रिकेट के लीजेंड सचिन तेंदुलकर, एमएस धोनी और विराट कोहली, बॉलीवुड सुपरस्टार अमिताभ बच्चन, और औद्योगिक उद्यमियों मुकेश अंबानी और गौतम अडानी भी शामिल हैं।

समारोह का समापन तिथि:

इस अद्वितीय क्षण का समर्पण 22 जनवरी को होने जा रहा है, जब आयोध्या में सभी धार्मिक और सांस्कृतिक आयामों का सम्मान होगा।

देशभर से आये तोहफे:

विभिन्न राज्यों से लोग प्रतीत समर्पण के साथ पवित्र नगर आयोध्या में आ रहे हैं। जल, मिट्टी, सोना, चांदी, मणियाँ, वस्त्र, गहने, बड़े घंटे, ढोल, सुगंध आदि के सांकेतिक उपहारों के साथ लोग आ रहे हैं। सबसे विशेष रूप से उनमें से एक थे माता जानकी के नेतृत्व में नेपाल के जानकपुर और बिहार के सीतामढ़ी से भेजे गए भार (बेटी के घर बिछाए जाने वाले उपहार) जो लोगों ने आयोध्या ले जाए और रायपुर, डंडकारण्य क्षेत्र के श्रीराम के नानीहाल से भेजे गए विभिन्न प्रकार के गहनों आदि के उपहार भी शामिल हैं।

समारोह की स्वीकृति:

आयोध्या के मंदिर के पुनर्निर्माण का यह यात्रा पूरे देशवासियों के उत्कृष्ट भावनाओं और समर्पण का परिचय है। समारोह में शामिल होने वाले सभी लोग एक महत्वपूर्ण सांस्कृतिक क्षण की उपस्थिति में समर्पित हैं और आयोध्या को एक नये आरंभ की ऊर्जा के साथ बांध रहे हैं।

इस अद्वितीय समर्थन के रूप में, विभिन्न प्रकार के उपहार लेकर आये गए लोग एक एक व्यक्ति के योगदान के माध्यम से इस समारोह को और भी रोचक बना रहे हैं। यह समारोह समृद्धि, एकता, और भगवान राम के प्रति आदरांजली का एक महान उत्सव है, जो भारतीय समाज के लिए गर्व का क्षण होगा।

Team K.H.
Team K.H. एक न्यूज़ वेबसाइट का लेखक प्रोफ़ाइल है। इस टीम में कई प्रोफेशनल और अनुभवी पत्रकार और लेखक शामिल हैं, जो अपने विशेषज्ञता के क्षेत्र में लेखन करते हैं। यहाँ हम खबरों, समाचारों, विचारों और विश्लेषण को साझा करते हैं, जिससे पाठकों को सटीक और निष्पक्ष जानकारी प्राप्त होती है। Team K.H. का मिशन है समाज में जागरूकता और जानकारी को बढ़ावा देना और लोगों को विश्वसनीय और मान्य स्रोत से जानकारी प्राप्त करने की सुविधा प्रदान करना।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here