हल्द्वानी हिंसा: बँभूलपुरा के केंद्र में कर्फ्यू आराम, दंगल के 7 दिन बाद

अवैध ढंग से बनाई गई "मदरसा" के विध्वंस के बाद बँभूलपुरा में हिंसा के बाद प्रशासन ने बुधवार को बँभूलपुरा शहर में कुछ घंटों के लिए कर्फ्यू को आराम देने का ऐलान किया।

हल्द्वानी हिंसा: बँभूलपुरा के केंद्र में कर्फ्यू आराम, दंगल के 7 दिन बाद
हल्द्वानी हिंसा: बँभूलपुरा के केंद्र में कर्फ्यू आराम, दंगल के 7 दिन बाद

सबसे महत्वपूर्ण बिंदु:

8 फरवरी को हल्द्वानी के बँभूलपुरा क्षेत्र में अवैध रूप से बनी मदरसे के विध्वंस के बाद हिंसा उत्पन्न हुई थी, जिसमें 6 लोगों की मौत हो गई और पुलिस और पत्रकारों समेत 100 से अधिक लोग घायल हुए थे।

हल्द्वानी प्रशासन ने बुधवार को बँभूलपुरा शहर में कुछ घंटों के लिए कर्फ्यू को आराम देने का ऐलान किया। यह विकास सात दिनों के बाद किया गया है जब इसे अवैध मदरसे के विध्वंस के कारण लगाया गया था।

नैनीताल जिला जज वंदना सिंह ने एक नोटिस जारी करते हुए कहा कि कर्फ्यू को 9 बजे से 4 बजे तक गौजाजाली, रेलवे बाजार और एफसीआई गोदाम क्षेत्र में आराम मिलेगा।

बाकी बँभूलपुरा के अन्य क्षेत्रों में 9 बजे से 11 बजे तक यह आराम होगा।

बँभूलपुरा क्षेत्र में अवैध रूप से बनी मदरसे के विध्वंस के बाद हिंसा उत्पन्न हुई थी, जिसमें स्थानीय लोगों ने पत्रकारों और पुलिस को पत्थर और पेट्रोल बम मारकर अक्रांत किया था, जिसके चलते कई पुलिसकर्मी पुलिस स्टेशन में शरण लेने के लिए मजबूर हो गए, जिसको फिर मोब ने आग लगा दी।

पुलिस के मुताबिक, हिंसा में छह दंगाई मारे गए थे और ज्यादातर घायल हो गए थे, जिनमें पुलिसकर्मी और मीडियाकर्मियों समेत थे।

हिंसा के बाद बँभूलपुरा में लगाए गए कर्फ्यू को शहर के बाहरी क्षेत्रों से पहले ही खत्म कर दिया गया था।

मुख्य आरोपी के खिलाफ अवमाननीय वारंट इस बीच, बुधवार को हल्द्वानी हिंसा के मुख्य आरोपी अब्दुल मलिक के खिलाफ एक अवमाननीय वारंट जारी किया गया। उन्होंने बँभूलपुरा में अब नष्ट हो चुकी मदरसे और प्रार्थना स्थल की निर्माण किया था और उनके विध्वंस के खिलाफ विरोध किया था।

अधिकारी यहां कहते हैं कि इस वारंट के बाद पुलिस को उनके घर की तलाश करने और उन्हें पकड़ने के अन्य कदम उठाने की अनुमति होगी।

उन्होंने कहा कि पुलिस अब उनकी संपत्ति को अटैच करने के लिए अदालत में एक याचिका भी दाखिल कर सकती है।

उत्तराखंड हाईकोर्ट ने बुधवार को मलिक की पत्नी साफिया द्वारा दायर की गई एक जनहित याचिका पर सुनवाई की।

उत्तराखंड हाईकोर्ट में मशहूर वकील सलमान खुर्शीद ने कहा कि उनका ग्राहक को मदरसे के विध्वंस से पहले कोर्ट में जवाब देने के लिए 15 दिन का समय दिया जाना चाहिए था।

खुर्शीद ने दावा किया कि हालांकि विध्वंस किया गया है और ऐसा कोई राहत प्रदान नहीं किया जा सकता है, लेकिन यह विधि के अनुसार नहीं किया गया था।

उन्होंने दावा किया कि नोटिस सेवा किए जाने के चार दिन बाद ही विध्वंस किया गया था, हालांकि विधि के अनुसार 15 दिन उन्हें उत्तर देने के लिए दिए जाने चाहिए थे।

उच्च न्यायालय ने राज्य सरकार से उत्तर मांगा है और पेटीशन की अगली सुनवाई मई के दूसरे सप्ताह में करेगा।

साथ में (पीटीआई प्रविष्टियों के साथ)

इस खबर को और अधिक जानकारी के लिए देखते रहें, हम आपको सभी अपडेट देते रहेंगे।

यह भी पढ़े: राम मंदिर मूर्ति स्थापना: दिल्ली LG ने 22 जनवरी को सरकारी कार्यालयों, शिक्षण संस्थानों में आधा दिन के लिए मंजूरी दी

Team K.H.
Team K.H. एक न्यूज़ वेबसाइट का लेखक प्रोफ़ाइल है। इस टीम में कई प्रोफेशनल और अनुभवी पत्रकार और लेखक शामिल हैं, जो अपने विशेषज्ञता के क्षेत्र में लेखन करते हैं। यहाँ हम खबरों, समाचारों, विचारों और विश्लेषण को साझा करते हैं, जिससे पाठकों को सटीक और निष्पक्ष जानकारी प्राप्त होती है। Team K.H. का मिशन है समाज में जागरूकता और जानकारी को बढ़ावा देना और लोगों को विश्वसनीय और मान्य स्रोत से जानकारी प्राप्त करने की सुविधा प्रदान करना।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here