अरविंद केजरीवाल जमानत: सियासी पार्टियाँ प्रतिक्रिया

Arvind Kejriwal Bail: Political Parties React
Arvind Kejriwal Bail: Political Parties React

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को शुक्रवार को ताजा जमानत मिलने के बाद, विपक्षी दलों ने, जिसमें कांग्रेस और तृणमूल कांग्रेस भी शामिल हैं, सुप्रीम कोर्ट के फैसले का स्वागत किया। न्यायाधीश संजीव खन्ना और दीपंकर दत्ता की बेंच ने केजरीवाल को 1 जून तक की अंतरिम जमानत दी और उन्हें 2 जून को सरेंडर करने को कहा। केजरीवाल को इस जमानत के दौरान कोई भी मुख्यमंत्री पद के कार्य नहीं निभाने के लिए भी कहा गया है।

आम आदमी पार्टी का कहना

AAP नेता सौरभ भारद्वाज ने कहा कि 40 दिनों के भीतर (गिरफ़्तारी के बाद) अंतरिम जमानत पाना कुछ कमाल के समान है। “सुप्रीम कोर्ट के माध्यम से, यह भारत में जो कुछ भी हो रहा है, उसमें एक परिवर्तन की आवश्यकता है। अरविंद केजरीवाल के पास भगवान बजरंगबली का आशीर्वाद है, और आज, वह जेल से बाहर आएंगे। मुझे लगता है कि यह एक साधारण बात नहीं है, और वह जेल से बाहर एक महत्वपूर्ण उद्देश्य के लिए आ रहे हैं, जो असाधारण बात है,” सौरभ भारद्वाज ने कहा।

कांग्रेस की राय

कांग्रेस नेता पवन खेड़ा ने एक वीडियो संदेश में कहा कि पार्टी सुप्रीम कोर्ट के फैसले का स्वागत करती है और आशा है कि पूर्व झारखंड मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को भी जल्द ही न्याय मिलेगा।

तृणमूल कांग्रेस का विचार

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भी इस निर्णय का स्वागत किया और कहा कि यह वर्तमान चुनावों के संदर्भ में बहुत मददगार होगा।

अत्यंत साफ्त: BJP का कहना

सुप्रीम कोर्ट के फैसले के हिस्से पर जोर देते हुए BJP नेता मंजिंदर सिंह सिरसा ने कहा, “सुप्रीम कोर्ट के फैसले से स्पष्ट है कि उसे चुनावों के लिए ही जमानत दी गई है। 1 जून के बाद वह जेल जाना ही होगा।”

यह न्यूज़ रिपोर्ट ताजगी के साथ पेश करती है कि कैसे राजनीतिक पार्टियोने अपने निष्कर्ष का बयान दिया। दूसरी ओर, शिव सेना के नेता संजय निरुपम ने कहा कि जेल या जमानत के बातों के बजाय, पहले अरविंद केजरीवाल को मुख्यमंत्री पद से हटाया जाना चाहिए।

उन्होंने कहा, “जेल या जमानत की बातों के बजाय, पहले उन्हें मुख्यमंत्री पद से हटाया जाना चाहिए। एक आरोपी कैसे जेल से सरकार चला सकता है?”

यहां तक कि सोशल मीडिया पर भी लोगों ने अपने विचार और राय जताई। यह निर्णय सियासी दलों के बीच एक मुद्दे का विषय बन गया है और जेल या जमानत के मुद्दे पर विवाद जारी है।

अरविंद केजरीवाल के खिलाफ मुकदमे की अगली सुनवाई 20 मई को है, जिसमें उनकी न्यायिक हिरासत का आगे का निर्णय होगा। इस नज़रिए से, सुप्रीम कोर्ट के निर्णय ने सियासी दलों को अपने-आप में संबोधित करने के साथ-साथ जनता के दिलों में भी चली है। जेल या जमानत के मुद्दे पर सियासत में नए खुलासे और विवाद की उम्मीद जारी है।

यह भी पढ़े: दिल्ली उच्च न्यायालय ने गिरफ्तार नेताओं के लिए वर्चुअल प्रचार याचिका को खारिज किया: प्रभाव और विश्लेषण

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Instagram Group Join Now
Team K.H.
Team K.H. एक न्यूज़ वेबसाइट का लेखक प्रोफ़ाइल है। इस टीम में कई प्रोफेशनल और अनुभवी पत्रकार और लेखक शामिल हैं, जो अपने विशेषज्ञता के क्षेत्र में लेखन करते हैं। यहाँ हम खबरों, समाचारों, विचारों और विश्लेषण को साझा करते हैं, जिससे पाठकों को सटीक और निष्पक्ष जानकारी प्राप्त होती है। Team K.H. का मिशन है समाज में जागरूकता और जानकारी को बढ़ावा देना और लोगों को विश्वसनीय और मान्य स्रोत से जानकारी प्राप्त करने की सुविधा प्रदान करना।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here