पंचायत सीजन 3 समीक्षा: जितेंद्र कुमार का शो भावनाओं की उड़ान भरता है, सहायक कलाकारों से चौंकाता है

पंचायत 3 समीक्षा: वेब सीरीज का नया अध्याय ग्रामीण भारत की राजनीतिक प्रतिद्वंद्विता को प्रेम और हास्य के साथ प्रस्तुत करता है।

Panchayat 3 review: Jitendra Kumar's show takes flight of emotions, surprises with supporting cast
Panchayat Season 3 Review In Hindi: Image Credit: Amazon Prime

पिछले दो वर्षों से हर कोई पंचायत के तीसरे अध्याय का इंतजार कर रहा था, और नवीनतम किस्त एक साथ चौंकाती है, मनोरंजन करती है, मंत्रमुग्ध करती है और कहीं-कहीं असफल भी होती है। इस बार, पंचायत 3 राजनीतिक हो जाती है क्योंकि शो ग्रामीण भारत की राजनीति और नौकरशाही के एक नए अध्याय को खोलता है, जिसमें जितेंद्र कुमार, नीना गुप्ता, रघुबीर यादव जैसे अद्वितीय कलाकार ऑनस्क्रीन होते हैं। हालांकि, यह दर्शकों को कुछ ढीले छोरों के साथ छोड़ सकता है।

भावनाओं की सूनामी

पंचायत 3 को 28 मई को रिलीज़ किया गया था। इसे चंदन कुमार द्वारा लिखा गया है और निर्देशक दीपक कुमार मिश्रा द्वारा तैयार किया गया है। यह शो भावनाओं की एक साइनसॉइडल लहर के रूप में आता है। यह आपको रुलाता है, हंसाता है, सुन्न करता है, और आपको उनके सरल लेकिन रोमांचक जीवन का हिस्सा महसूस कराता है।

ग्रामीण राजनीति की झलक

शो की शुरुआत सचिव जी के स्थानांतरण से होती है, और दर्शकों को फूलपुर वापस लाने में 5-10 मिनट का समय लेता है। यह शो शोक को संभालने, समुदाय की एक-दूसरे की मदद करने की थीम को दर्शाता है, और एकता के महत्व को उजागर करता है। ट्विस्ट और टर्न की बात करें तो, शो दर्शकों को निराश नहीं करता।

संगीत की भूमिका

अनुराग सैकिया का संगीत कहानी की मूड को दर्शाता है। जबकि टाइटल ट्रैक इंस्ट्रूमेंटल से रॉक तक जाता है, बैकग्राउंड स्कोर कहानी के भावनात्मक कोटेंट के साथ सिंक में है। ध्वनियाँ और धुनें फूलपुर के जीवन को और जीवंत बनाती हैं।

सहायक कलाकारों का योगदान

कहानी के मामले में, निर्देशक ने सहायक कलाकारों को सामने लाने का एक नया तरीका आजमाया है और मुख्य कलाकारों को साइड में खेलते हुए दिखाया है। यह शैली निश्चित रूप से कहानी के पक्ष में काम करती है। निर्देशक सभी को अपने ही तरीके से हीरो बनाते हैं।

विशेष कलाकार

भूषण शर्मा के रूप में दुर्गेश कुमार का किरदार इस बार और भी दिलचस्प है। वह मुख्य पात्रों के पद को खतरे में डालते हैं, और सीजन के सबसे मजबूत रोल में से एक के रूप में उभरते हैं। उनके सच्चे पोटेंशियल का इस सीजन में अच्छे से उपयोग किया गया है।

पंचायत 3 में यह सच है कि कोई भी किरदार छोटा नहीं है। छोटे रोल वाले अभिनेता भी प्रदर्शन करने और चमकने का मौका पाते हैं। गणेश (आसिफ शेख द्वारा निभाया गया) की वापसी एक आश्चर्यजनक और खुशी का क्षण है। वह पुरानी यादें ताजा करते हैं और प्लॉट में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

मुख्य कलाकारों का प्रदर्शन

Panchayat Season 3 Release Date: Know when and where to watch Jitendra Kumar's popular series

 

जितेंद्र कुमार (अभिषेक त्रिपाठी) जितेंद्र कुमार, जो अभिषेक त्रिपाठी की भूमिका निभाते हैं, ने एक बार फिर अपने उत्कृष्ट अभिनय कौशल का प्रदर्शन किया है। अभिषेक का किरदार एक युवा इंजीनियर का है जो अनिच्छा से पंचायत सचिव बनता है। इस सीजन में जितेंद्र कुमार ने अभिषेक के किरदार में परिपक्वता और गहराई लाई है। उनका प्रदर्शन दर्शकों को अभिषेक की भावनात्मक यात्रा के साथ जुड़ने पर मजबूर कर देता है। अभिषेक का शांत और संयमी स्वभाव, जिसे जितेंद्र कुमार ने बड़े ही सरल और प्रभावी तरीके से निभाया है, शो की धुरी बना हुआ है।

नीना गुप्ता (मंजू देवी) नीना गुप्ता ने मंजू देवी के किरदार को जीवंत कर दिया है। मंजू देवी गाँव की प्रधान हैं, लेकिन उनका वास्तविक नियंत्रण उनके पति के हाथ में है। इस सीजन में नीना गुप्ता ने मंजू देवी के किरदार को और भी गहराई और मजबूती दी है। उनके अभिनय में एक आत्मविश्वास और दृढ़ता झलकती है जो मंजू देवी के किरदार को और भी प्रभावशाली बनाता है। नीना गुप्ता का सहज और प्राकृतिक अभिनय दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर देता है।

रघुबीर यादव (बृज भूषण दुबे) रघुबीर यादव ने बृज भूषण दुबे के किरदार में एक बार फिर अपनी अभिनय प्रतिभा का प्रदर्शन किया है। बृज भूषण, जो मंजू देवी के पति हैं, का किरदार हास्य और गंभीरता का मिश्रण है। रघुबीर यादव का अभिनय इस किरदार को और भी दिलचस्प बना देता है। उन्होंने बृज भूषण की भावनाओं और उनकी परेशानियों को बड़े ही सजीव और प्रभावशाली तरीके से प्रस्तुत किया है।

चंदन रॉय (विकास) चंदन रॉय, जो विकास की भूमिका निभाते हैं, ने अपने किरदार में एक नया रंग भरा है। विकास का किरदार एक मासूम और भोले ग्रामीण युवक का है जो सचिव जी का सहायक है। चंदन रॉय ने विकास के किरदार को बड़े ही प्यारे और मनोरंजक तरीके से निभाया है। उनका हंसमुख और चुलबुला स्वभाव दर्शकों को हंसाता और गुदगुदाता है।

सानविका (रिंकी) सानविका ने रिंकी के किरदार को एक नया आयाम दिया है। रिंकी, जो सचिव जी की प्रेमिका है, का किरदार इस सीजन में और भी महत्वपूर्ण हो गया है। सानविका ने रिंकी के किरदार को बड़े ही कोमल और सजीव तरीके से प्रस्तुत किया है। उनका अभिनय न केवल रिंकी के किरदार को विश्वसनीय बनाता है बल्कि दर्शकों को भी उनसे जुड़ने पर मजबूर कर देता है।

सहायक कलाकारों का योगदान

फैसल मलिक (प्रह्लाद) फैसल मलिक, जो प्रह्लाद की भूमिका निभाते हैं, ने अपने किरदार में एक नई जान डाली है। प्रह्लाद का किरदार, जो अपने बेटे की मृत्यु के बाद शोक में डूबा हुआ है, इस सीजन में और भी गहराई और भावनात्मकता से भरा हुआ है। फैसल मलिक ने प्रह्लाद के दुख, संघर्ष और आत्म-खोज को बड़े ही सजीव और प्रभावशाली तरीके से प्रस्तुत किया है।

दुर्गेश कुमार (भूषण शर्मा) दुर्गेश कुमार ने भूषण शर्मा के किरदार को एक नई ऊंचाई पर पहुंचा दिया है। इस सीजन में भूषण का किरदार और भी महत्वपूर्ण हो गया है, जो मुख्य पात्रों के पद को चुनौती देता है। दुर्गेश कुमार ने भूषण के किरदार को बड़े ही दमदार और प्रभावशाली तरीके से निभाया है।

अन्य सहायक कलाकार अन्य सहायक कलाकारों में सुनिता राजवार (क्रांति देवी), पंकज झा (विधायक चंद्रकिशोर सिंह), अशोक पाठक (विनोद), और बुल्लू कुमार (माधव) ने भी अपने-अपने किरदारों में जान डाल दी है। इन सभी ने अपने छोटे-छोटे रोल्स में भी शानदार प्रदर्शन किया है, जो शो की कहानी को और भी मजबूत बनाता है।

पंचायत 3 में मुख्य और सहायक कलाकारों का प्रदर्शन अद्वितीय और प्रशंसनीय है। हर किरदार ने अपने अभिनय से शो को नई ऊंचाईयों पर पहुंचाया है। इन सभी कलाकारों ने अपनी-अपनी भूमिकाओं में गहराई और विश्वसनीयता लाई है, जो दर्शकों को शो से जोड़ने में मदद करती है। पंचायत 3 एक भावनात्मक और मनोरंजक यात्रा है, जिसे इन प्रतिभाशाली कलाकारों ने अपने उत्कृष्ट प्रदर्शन से और भी यादगार बना दिया है।

लेखन में धीमापन

शो का लेखन कुछ स्थानों पर थोड़ी धीमी थी, जिससे यह स्पष्ट होता है कि कुछ चीजें पोस्ट प्रोडक्शन चरण में अंतिम संपादन में शामिल नहीं हो पाई हैं, जिससे कई ढीले छोर रह गए हैं।

भविष्य के लिए ऊंचे दांव

तीसरे भाग के लिए दांव ऊंचे थे और लेखक ने बार को बढ़ाया। हालांकि, अंत में यह सीजन एक भूलने योग्य नोट पर लपेटा गया। कुछ मिनट पहले एक उच्च बिंदु था, जो चौथे सीजन के लिए एक महान क्लिफहैंगर और प्रारंभिक बिंदु हो सकता था।

निष्कर्ष

कुल मिलाकर, तीसरा सीजन कुछ जगहों पर धीमा था, लेकिन यह मनोरंजन, भावनाओं और रोमांच कारक में कम नहीं था। पिछले सीजनों के कुछ संदर्भ भी दिए गए हैं, जिन्हें समझने के लिए पहले के सीजनों का संक्षिप्त पुनरावलोकन अच्छा रहेगा।

पंचायत सीजन 3 अब Amazon Prime Video पर स्ट्रीमिंग कर रहा है।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Instagram Group Join Now
Team K.H.
Team K.H. एक न्यूज़ वेबसाइट का लेखक प्रोफ़ाइल है। इस टीम में कई प्रोफेशनल और अनुभवी पत्रकार और लेखक शामिल हैं, जो अपने विशेषज्ञता के क्षेत्र में लेखन करते हैं। यहाँ हम खबरों, समाचारों, विचारों और विश्लेषण को साझा करते हैं, जिससे पाठकों को सटीक और निष्पक्ष जानकारी प्राप्त होती है। Team K.H. का मिशन है समाज में जागरूकता और जानकारी को बढ़ावा देना और लोगों को विश्वसनीय और मान्य स्रोत से जानकारी प्राप्त करने की सुविधा प्रदान करना।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here