रिलायंस इंडस्ट्रीज ने पिछले 10 वर्षों में 125 अरब डॉलर का कैपेक्स में निवेश किया

रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड ने पिछले दस वर्षों में हाइड्रोकार्बन और टेलीकॉम व्यवसायों में व्यापक विस्तार के दौरान 125 अरब डॉलर से अधिक का निवेश किया है।

Reliance Industries Invests USD 125 Billion in Capex Over Last 10 Years
Reliance Industries Invests USD 125 Billion in Capex Over Last 10 Years

मुख्य ख़बर: नई दिल्ली, रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड ने पिछले दस वर्षों में अधिकतम 125 अरब डॉलर का कैपेक्स में निवेश किया है। गोल्डमन सैक्स की एक गहरी खोज रिपोर्ट में कहा गया है कि “कंपनी ने वर्ष 2013-18 के बीच ऑटीसी व्यवसाय के माप, एकीकृतता और लागत प्रतिस्पर्धा को बढ़ाने के लिए लगभग 30 अरब डॉलर निवेश किया है, और वर्ष 2013-24E के बीच 4जी/5जी क्षमताओं में निर्माण के लिए लगभग 60 अरब डॉलर का निवेश किया है ताकि एक उच्च-वृद्धि टेलीकॉम व्यवसाय बन सके।”

मुख्य बिंदुएँ:

  1. रिलायंस इंडस्ट्रीज ने पिछले दस वर्षों में हाइड्रोकार्बन और टेलीकॉम में 125 अरब डॉलर का कैपेक्स में निवेश किया है।
  2. आगामी तीन वर्षों में कंगैलोमरेट के निवेश निर्माण और ऊर्जा के क्षेत्र में रिटेल और अपस्ट्रीम नई ऊर्जा में अधिक कैपेक्स के विपरीत होगा।
  3. ऑफलाइन वर्गफुट क्षेत्र को विस्तारित करने के माध्यम से रिटेल ईबीआईटीडीए को दोगुना करने की उम्मीद है।
  4. रिलायंस नई ऊर्जा में कैपेक्स को दो चरणों में बाँटने की योजना बना रही है।

इस प्रकार, रिलायंस इंडस्ट्रीज ने पिछले दस वर्षों में अधिकतम निवेश किया है और आगामी तीन वर्षों में भी निवेश जारी रखेगी, जिससे कंपनी के व्यापक विस्तार को समर्थन मिलेगा। यह निवेश स्ट्रेटेजी और विकास के प्रति रिलायंस की संकल्पना को दर्शाता है।

अगले वर्षों की योजना:

गोल्डमन सैक्स की रिपोर्ट में यह भी खास बताया गया है कि रिलायंस इंडस्ट्रीज अगले तीन वर्षों में अधिक निवेश करने जा रही है, जो कैपेक्स इंटेंसिव क्षेत्रों के बजाय अधिक लाभकारी और कम समय के गर्भावस्था वाले व्यावसायों में होगा। इससे यह साबित होता है कि कंपनी अपनी संपत्ति के विस्तार के साथ-साथ मार्केट में भी अधिक प्रभावी बनने की कोशिश में है।

नयी ऊर्जा क्षेत्र में निवेश की योजना:

रिलायंस का नया ऊर्जा क्षेत्र में निवेश दो चरणों में होगा। पहले चरण में, रिलायंस ने पूरी तरह से एकीकृत सोलर और बैटरी निर्माण संयंत्रों को पूरा करने के लिए 10 अरब डॉलर का निवेश किया है। दूसरे चरण में, कंपनी नई ऊर्जा उत्पादन के लिए सोलर डाउनस्ट्रीम, इलेक्ट्रोलाइजर, और हवा उत्पादन क्षमताओं की योजना बना रही है।

निवेश की रणनीति:

रिलायंस इंडस्ट्रीज के इस बड़े निवेश से साफ है कि कंपनी अपने विभिन्न क्षेत्रों में अगले तीन वर्षों में विस्तार की योजना बना रही है। इससे न केवल कंपनी के व्यवसाय में वृद्धि होगी, बल्कि यह भारतीय अर्थव्यवस्था के विकास में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी।

निवेश की प्रासंगिकता:

इस समय में, जब भारत में नए उत्पादों और ऊर्जा स्रोतों की आवश्यकता है, रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड का यह निवेश प्रासंगिक और आवश्यक है। इससे देश के विकास में भी यह निवेश बड़ा महत्व रखता है।

संपूर्ण संक्षेप:

इस समय में, रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड की निवेश की योजनाएं और रणनीति बड़ी रुचि वाली हैं। इस निवेश से कंपनी न केवल अपने व्यवसाय को बढ़ावा देगी, बल्कि देश के विकास में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी।

नोट: यह खबर ऑटोमेटिक न्यूज़ एजेंसी फीड से उत्पन्न की गई है, जिसमें किसी भी परिवर्तन का संपादन नहीं किया गया है। इसलिए कृपया इस जानकारी की पुष्टि अपने तरफ से भी करें। आपके अनुभव और विशेषज्ञता के आधार पर जोड़ा गया है। आपका अद्वितीय दृष्टिकोण पाठकों को अधिक जानकारी और समझ प्रदान करेगा। आपके बाद की सेवा करने का अवसर मिलेगा।

यह भी पढ़े: टाटा मोटर्स ने दिल्ली के पास नया पंजीकृत वाहन स्क्रैपिंग सुविधा केंद्र खोला

SOURCEHindustan Times
Team K.H.
Team K.H. एक न्यूज़ वेबसाइट का लेखक प्रोफ़ाइल है। इस टीम में कई प्रोफेशनल और अनुभवी पत्रकार और लेखक शामिल हैं, जो अपने विशेषज्ञता के क्षेत्र में लेखन करते हैं। यहाँ हम खबरों, समाचारों, विचारों और विश्लेषण को साझा करते हैं, जिससे पाठकों को सटीक और निष्पक्ष जानकारी प्राप्त होती है। Team K.H. का मिशन है समाज में जागरूकता और जानकारी को बढ़ावा देना और लोगों को विश्वसनीय और मान्य स्रोत से जानकारी प्राप्त करने की सुविधा प्रदान करना।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here